संकलक

Hindi Blogs Directory

Tuesday, October 30, 2012

अन्ना बने गेंदबाज

अन्ना हजारे ने कहा कि उन्होंने सरकार के छ: विकेट लिए हैं। यह खुलासा होते ही पूरे भारत के क्रिकेटप्रेमियों में हलचल मच गई है। हर तरफ से अन्ना हजारे को टीम इंडिया में शामिल किए जाने की मांग होने लगी है। अब भारतीय गेंदबाजों के वर्तमान फॉर्म के बारे में तो आप सब जानते ही हैं। एक भी गेंदबाज दो विकेट से ज्यादा नहीं ले पा रहा है। हरभजन सिंह बाहर हैं और जहीर खान से लेकर आर आश्विन समेत तमाम गेंदबाज फॉर्म से बाहर हैं। इस बीच अंग्रेज एक बार फिर लगान वसूलने के लिए भारत की धरती पर पधार चुके हैं। ऐसे में अन्ना हजारे भारत के लिए गेंदबाजी में एक बेहतरीन विकल्प हो सकते हैं।

अब जरा कल्पना कीजिए कि अन्ना हजारे को टीम इंडिया में बतौर गेंदबाज शामिल कर लिया जाता है। मैच में धोनी विकेट बल्लेबाजी लायक होने के बावजूद टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला करते हैं। अंग्रेज कप्तान हैरान है, रविशास्त्री भी हैरान हैं। वह कहते हैं कि धोनी ऐसा क्यों? धोनी पूरे आत्मविश्वास के साथ जवाब देते हैं? मेरे पास अन्ना हैं !

उधर अंग्रेजों की टीम परेशान है। अब ये अन्ना कौन आ गया। इसका तो कोई गेंदबाजी वीडियो भी नहीं कि जिसे देखकर थोड़ी प्रैक्टिस कर लें! चलो अब बैटिंग तो करनी ही है। अंग्रेज ओपनर बल्लेबाज मैदान पर उतर रहे हैं। भारतीय टीम भी मैदान पर फिल्डिंग करने उतर रही है। अन्ना के हाथ में नई गेंद है।

आते ही अन्ना पहले सभी फील्डरों को बुलाते हैं। सब गोल घेरे में खड़े हो जाते हैं। थोड़ी देर के बाद सभी पिच पर गोल घेरा बनाकर बैठ जाते हैं। कमेंटेटर हैरान! दोनों अंपायर हैरान! अंग्रेज बल्लेबाज हैरान! अन्ना जेब से टोपी निकालकर पहन लेते हैं। टोपी पर लिखा है मैं गेंदबाज हूं। टीम इंडिया के बाकी खिलाड़ी भी अपनी जेब से टोपी निकालकर पहन लेते हैं। किसी की टोपी पर लिखा है— मैं पेप्सी हूं। किसी की टोपी पर लिखा है— मैं रीबॉक हूं। धोनी और सचिन डिसाइड नहीं कर पा रहे हैं कि कौन सी टोपी पहनें। दरअसल दोनों ने इतने ज्यादा विज्ञापन करार साइन कर रखे हैं कि समझ में नहीं आ रहा है कि किसे दिखाएं किसे ना दिखाएं। डर है कोई कंपनी नाराज न हो जाए।

उधर बीसीसीआई वाले भी परेशान हैं। न्यूज़ चैनल इसे लाइव दिखा रहे हैं। इस बीच टीम इंडिया का कोई सदस्य अन्ना से पूछता है कि हम इस तरह क्यूं बैठे हैं? ऐसे विकेट कैसे मिलेगा? अन्ना तब अंदर की बात बताते हैं। वह कहते हैं कि वैसे भी तुम लोग दौड़—भाग कर नहीं पाते। एक रन की जगह तीन रन दे देते हो। कैच पकड़ नहीं पाते हो। इसलिए हम लोग आमरण अनशन कर रहे हैं। मुझे छह—सात दिन तक अनशन करने का अनुभव है। देखना एक—दो नहीं पूरे सोलहों विकेट गिरेंगे। टीम इंडिया का नया सदस्य संशय में है। और कहीं हम लोग गिर पड़े तो?

1 comment: