संकलक

Hindi Blogs Directory

Wednesday, May 4, 2011

जब पहुंचा ओसामा ऊपर

ओसामा बिन लादेन मरने के बाद ऊपर गया. ऊपर भी बहुत तेजी के साथ ओसामा के मारे जाने कि खबर फ़ैल गयी. बल्कि वहां तो और पहले से ही लोगों को मालूम हो चुका था कि ओसामा मारा जाने वाला है. यह बात मालूम पड़ते ही सभी आत्माओं ने तैयारियां शुरू कर दी थीं, उसे देखने की. "ऊपरवाला सबसे तेज" नाम का न्यूज़ चैनल पल-पल की खबरे लोगों तक पहुंचा रहा था. "जहन्नुम लाइव" नाम का न्यूज़ चैनल तो और भी तेज है. उसने अपने एक रिपोर्टर को यमदूतों के साथ धरती पर भेज दिया. टीआरपी की लड़ाई में आगे रहने की ये उसकी चाल थी. वहीँ "नरक टाएम्स" और "अंधेरा अमर रहे" जैसे कुछ अखबार भी ओसामा की ख़बरों से रंगे पड़े थे।




खैर, नरक पुरम और स्वर्ग पुरम दोनों मोहल्लों के हर घर में तैयारी चल रही थी। हर आत्मा ओसामा को देखने जाना चाहती थी. एक महिला आत्मा अपने पति आत्मा से कह रही थी, ये जी, नई साडी ला दीजिये ना. इतना नामी गिरामी आदमी आ रहा है ऊपर उसे देखने जायेंगे, तो थोडा अच्छा कपडा चाहिए ना.




कुछ सम्मानित ढंग कि आत्माएं एक जगह जुटी हुई थी। चेहरे पर चिंता की लकीरे. तभी एक सज्जन पुरुष आत्मा वाला बोलटी हैं. हमें यमराज महोदय से बात करनी होगी. ऐसे खतरनाक और कलुषित मानसिकता के व्यक्ति को हम जहन्नुम में भी बर्दास्त नहीं करेंगे। उसके लिए स्पेशल सेल बनायीं जाए. उसे सबसे अलग रखना चाहिए.




एक और जगह पर कुछ और आत्माएं जुटी हुई थीं। सबके चेहरे पर एक तरह का सुकून है. कुछ ख़ुशी सी है. एक दुष्ट पुरुष आत्मा आगे आके बोलना शुरू करती है. कितने दिनों से इस शुभ घडी का इंतज़ार था. जो मिशन धरती पर अधूरा रह गया, उसे हम यहाँ पूरा करेंगे. हमारा आका आ रहा है. उसके स्वागत में कोई कमी नहीं होनी चाहिए. हर इंतज़ाम ढंग से और पूरा होना चाहिए.




यमराज सबसे ज्यादा परेशान। कुछ दूतों ने पूछा क्या बात है महाराज, तो भड़क गए. क्या बताएं कि तीन दिन से सीआईऐ और आईएसआई एजेंटों की आत्माओं ने परेशान करके रखा है. कह रहे हैं कि ओसामा की आत्मा के यहाँ आते ही हमारे हवाले कर दो. अब बताओ भला मैं क्या करूं.




जब ओसामा ऊपर पहुंचा तो एकदम परेशान। बोला हमको वापस पाकिस्तान भेज दो...............