संकलक

Hindi Blogs Directory

Saturday, July 10, 2010

"मंहगाई डायन" के जलवे


वैसे अभी आमिर खान की बहु चर्चित फिल्म पीपली लाइव रिलीज़ तो नहीं हुई है मगर इसे लेकर चर्चाओं का बाज़ार गरम है। कभी इस फिल्म में उठाये गए किसानो की मौत के मुद्दे को लेकर तो कभी इस फिल्म की भाषा को लेकर। इन दिनों फिल्म का गाना मंहगाई डायन खाए जात है खासा चर्चा में है। गाने में मंहगाई की निंदा की गई है। उधर देश के हालात भी इन दिनों कुछ ऐसे ही हैं की हर कोई मंहगाई से बेजार है। ऐसे में कहना गलत नहीं होगा की यह फिल्म और गाना दोनों ही बड़े ऐन मौके पर रिलीज़ हो रही है। इस बीच मंहगाई के खिलाफ कमर कसे विपक्छ को एक और हथियार दे दिया है। गाने के बोल और संगीत दोनों ही लुभावने है। और मुद्दा भी जनता के दिल के करीब है। तो बीजेपी और दूसरी विपक्छी पार्टियाँ इस गाने को गली गली बजने की तयारी कर रही है। अब खबर यह आ रही है की सरकार खुद को असहज महसूस कर रही है। ऐसे में हो सकता है की इस गाने पर बन भी लगा दिया जाय। वैसे कांग्रेस तो बैन लगाने मे माहिर है ही। पर फिल्हत तो इस गाने के बोल गुनगुना रहे हैं मंहगाई डायन खाए जात है......... आप भी गुनगुनाइए.

3 comments:

  1. शानदार पोस्ट

    ReplyDelete
  2. सखी सैंया तो खूब ही कमात हैं...
    मंहगाई डायन खाए जात है...

    ReplyDelete
  3. गुनगुना रहे हैं.

    ReplyDelete