संकलक

Hindi Blogs Directory

Thursday, April 8, 2010

इन हिंदी कमेंटेटरों से बचाओ


इन दिनों आईपीएल का बुखार छाया हुआ है। एक के बाद एक शानदार मैच देखने को मिल रहा है। सचिन, कैलिस, गिलक्रिस्ट, मुरली धरन कुंबले जैसे बुजुर्गों का जलवा देखने में आ रहा है तो वहीँ युसूफ पठान, विराट कोहली, मुरली विजय जैसे नए लड़के भी अच्छा परफोर्म कर रहे है। पब्लिक का पूरा मनोरंजन हो रहा है। ललित मोदी ने हर इन्तेजाम अच्छा किया है। लेकिन इन सबके बीच एक चीज़ है जिसकी कमी खल रही है। वह है क्वालिटी हिंदी कमेंटरी। कमेंटरी टीम में मसलन अरुण लाल, अतुल वासन, सबा करीम, जैसे कई नाम हैं। पर इनकी कमेंटरी सुन कर हंसी आती है। कुछ एक उदाहरण देखिये। जैसे पिछले दिनों चेन्नई सुपर किंग्स के मुरली विजी ने एक शानदार कैच पकड़ा तो अरुण लाल ने कहा "हद हो गयी।" यह तो महज एक बानगी है। ऐसे तमाम जुमले ये जनाब लोग बोलते है की सुन के शर्म आती है। कई बार तो सोचता हूँ की क्या सोच कर ललित मोदी ने इन्हें कमेंटरी टीम में शामिल कर लिया। मुझे तो रेडियो की हिंदी कमेंटरी याद आती है। विनीत गर्ग की कमेंटरी का तो मैं मुरीद हूँ । रेडियो पर सुनते हुए ऐसा लगता है मानों मैच टीवी पर देख रहे हों। उधर इन लोगों की कमेंटरी सुनता हूँ तो मन करता की नवीं मंजिल से कूद जाऊं। ( दरअसल जिस अखबार में मैं काम करता हूँ उसकी ऑफिस नवीं मंजिल पर है।) सच बताऊँ इनसे कहीं अच्छी हिंदी कमेंटरी मैं खुद कर सकता हूँ। हो सकता है की तकनिकी ज्ञान इतना न हो पर इन लोंगों के पास तो ज्ञान है क्या फायदा ऐसे ज्ञान का। इनसे भी गए गुजरे तो वे चार चौपटे है, जो मैच शुरू होने के पहले और ख़त्म होने के बाद टीवी पर आ जाते हैं। एक दिन मैच ख़त्म होने के बाद रोबिन उथप्पा से बात करते हुए इन्ही चार चौपटों में से एक ने उन्हें रोबिन सिंह कह दिया। हकीकत में आईपीएल जैसे बेहतरीन टूर्नामेंट में इनकी कमेंटरी एक दाग है। है कि नहीं बताइयेगा ज़रूर।

No comments:

Post a Comment