संकलक

Hindi Blogs Directory

Sunday, December 5, 2010

हाँ हममें है दम

न्यूजीलैंड के साथ वन डे सीरीज शुरू होने के पहले जब भारतीय टीम की कप्तानी गौतम गंभीर के हाथों में दी गयी थी और ज्यादातर सीनियर्स को आराम दे दिया गया तो टीम अचानक से काफी कमजोर नजर आने लगी थी। लोगों के मन में यह बात थी कि क्या यह टीम किवी टीम का मुकाबला कर पायेगी। खासकर उस समय जबकि न्यूजीलैंड की टीम टेस्ट सिरीज हर चुकी थी। जाहिर सी बात थी कि किवी खिलाडियों के मन में वन डे मैचों में जीत हासिल कर बदला चुकाने कि भावना प्रबल रही होगी।
खाई ऐसा कुछ हुआ नहीं और गंभीर की अगुवाई में टीम ने बड़ी आसानी से न्यूजीलैंड की टीम को हार का स्वाद चखाया और सीरिज पर कब्ज़ा कर लिया। इस दौरान टीम का प्रदर्शन खासा अच्छा रहा। खुद कप्तान गंभीर ने मोर्चे से अगुवाई की और टीम को कहीं से भी सचिन, सहवाग, धोनी और दूसरे बड़े खिलाडियों की कमी महसूस नहीं होने दी। उनके अलावा विराट कोहली, युसूफ पठान, श्रीसंत, आर आश्विन और दूसरे खिलाडियों ने भी कहीं से निराश नहीं किया।
भारतीय टीम के युवाओं की यह जीत दिखाती है कि टीम अब पूरी तरह परिपक्व हो चुकी है। मुझे पिछले समय के दिन याद आते है। जब टीम पूरी तरह सचिन पर निर्भर हुआ करती थी। बाहर करते ही बल्लेबाजी धडाम हो जाया करती थी। अब टीम उस दुआर को काफी पीछे छोड़ चुकी है। यह ये दिखाता है कि हमारी युवा पीढ़ी कितनी मजबूत है। बढ़ो इंडिया वर्ल्ड कप जीत लो!

No comments:

Post a Comment